नाईट फॉल के कारण और रोकने के आसान उपाय (Nightfall ke karan or rokne ke aasan upay)

0
252
Nightfall Ke Karan Or Upay - Sex Samasya
Nightfall Ke Karan Or Upay - Sex Samasya

स्वप्नदोष कैसे रोकें? (Swapandosh kaise roke?)

Nightfall Kaise Roke - Sex Samasya
Nightfall Kaise Roke – Sex Samasya

आज कई युवा पुरूष नाईट फॉल की समस्या से (nightfall ki samasya) परेशान हैं।

ऐसे में उन्हें नाईट फॉल का इलाज प्राप्त करना होता है।

उनका सबसे बड़ा प्रश्न ही यह होता है कि नाईट फॉल कैसे रोकें?

लेकिन उससे पहले ये जान लेते हैं कि स्वप्नदोष क्या है?

नाईट फॉल क्या है? (Nightfall kya hai?)

रात को नींद में देखे गये किसी अश्लील सपने के दौरान नींद में ही वीर्य स्खलित हो जाना।

इसे ही नाईट फॉल कहते हैं।

नाईट फॉल की समस्या अधिकतर 15 से 30 वर्ष के युवाओं में अधिक देखने को मिलती है।

क्या नाईट फॉल एक बीमारी है? (Kya nightfall ek bimari hai?)

माह में 2 से 3 बार स्वप्नदोष होना सामान्य है।

इसके लिए इलाज व चिंता की आवश्यकता नहीं होती है।

लेकिन 10 से 15 या फिर उससे भी अधिक बार आपको नाईट फॉल हो रहा है,

तो इसका इलाज जरूरी हो जाता है।

आप यह हिंदी लेख SexSamasya.com पर पढ़ रहे हैं..

स्वप्नदोष के लक्षण और कारण (Swapandosh ke lakshan or karan)

किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य समस्या हो, उसके पीछे कारण जरूर होता है।

कोई भी समस्या अकारण उत्पन्न नहीं होती है।

ठीक ऐसे ही स्वप्नदोष की समस्या (swapandosh ki samasya) भी अकारण नहीं होती है।

इसलिए पहले नाईट फॉल के कारण और लक्षण पर चर्चा कर लेते हैं।

नाईट फॉल के लक्षण (Nightfall ke lakshan)

  • नींद खुलने पर लिंग में गीलापन होता है।
  • वीर्य स्खलित होते ही अचानक से नींद खुल जाती है।
  • अंडर वियर व बिस्तर का गीला होना।
  • सुबह बिस्तर से या ओढ़ने के कपड़ो से दुर्गंध आना।
  • शारीरिक कमजोरी महसूस होना।
  • आंखों के नीचे काले डार्क सर्कल बन जाना।
  • कमर या जाँघों में दर्द व ऐंठन महसूस होना।
  • प्रोस्टेट ग्रंथि से संबंधित समस्या के कारण मूत्र त्याग के दौरान जलन

स्वप्नदोष के कारण (Swapandosh ke karan)

अश्लीलता

किसी भी माध्यम से अश्लील चीजे देखना। सुनना और पढ़ना। हमेशा स्त्रियों की कल्पना करना। ये सारी बातें दिमाग में घर कर जाती हैं। फिर यही सब नींद में आपको सपने के दौरान दिखाई देने लगता है। आपको अनैच्छिक उत्तेजना आती है और आपका वीर्य स्खलित हो जाता है।

हस्तमैथुन की आदत

अधिक मात्रा में हस्तमैथुन (hastmaithun) करने से वीर्य पतला हो जाता है। इस कारण से भी वीर्य नींद में आसानी से स्खलित हो जाता है। हस्तमैथुन की लत के कारण लिंग की नसें कमजोर हो जाती है। वीर्य रोकने की क्षमता भी कमजोर हो जाती है।

पेट के बल सोना

कई पुरूष पेट के बल सोना पसंद करते हैं। पेट के बल सोने से लिंग में दबाव बनता है। लिंग में उत्तेजना आने लगती है। ऐसा अहसास होता है कि आप संभोग कर रहे हैं और वीर्य निकल जाता है।

तेज मसालेदार व गरम चीजें खाना

रात को अधिक तेज मसालेदार भोजन का सेवन करने से भी स्वप्नदोष की समस्या होती है।

मूत्रवेग रोकने की आदत

कभी भी मूत्रवेग को अधिक देर तक नहीं रोकना चाहिए। विशेषकर रात को सोने से पहले। जब भी मूत्रवेग हो, तुरन्त मूत्र त्याग के लिए जायें।

नाईट फॉल से कैसे बचें? (Nightfall se kaise bache?)

Nightfall Se Kaise Bache - Sex Samasya
Nightfall Se Kaise Bache – Sex Samasya

पेट के बल ना सोयें

जैसे कि पहले भी चर्चा कि पेट के बल सोने से लिंग में दबाव बनता है। ऐसे ही बस, कार किसी भी वाहन में अपनी गोद में कोई भार न रखें। ये लिंग में दबाव बनाकर लिंग में तनाव लाने का काम करते हैं। हो सकता है आपको कामुक विचार आने लगें। फिर यही सब नींद में आपको स्वप्नदोष होने के लिए मजबूर कर देते हैं।

टाइट वस्त्र न पहनें

अधिक टाइट अंडर वियर पहनने से लिंग पर दबाव बनता है। जो अनैच्छिक उत्तेजना लाने का काम करते हैं। ठीक ऐसे ही अधिक भारी रजाई या कंबल को अपने ‘वहां’ लगने दें।

‘हद में करो तो ठीक’ वाली सोच को छोड़ें

कई पुरूषें की ऐसी मानसिकता होती है कि कुछ भी करो लेकिन हद में करो। इसी मानसिकता के साथ यदि आप हस्तमैथुन करें या अश्लील चीजें देखें, तो नुकसान होगा ही होगा। फायदा नहीं होगा। इसलिए ‘हद में करो’ वाली सोच को छोड़ें। स्वप्नदोष से बचें।

अश्लील वातावरण में न रहें

हमेशा कुसंगति से बचना चाहिए। शादीशुदा दोस्तों से सुहागरात के किस्से सुनना। अश्लील चर्चाएं सुनना। ये सब जाने-अनजाने आपके अंदर उत्तेजना का संचार कर देते हैं। जिसके कारण स्वप्नदोष होने की संभावना बढ़ जाती है।

स्वप्नदोष रोकने के घरेलू उपाय (Swapandosh rokne ke gharelu upay)

  • अगर आपको रोज स्वप्नदोष हो रहा है, तो ये उपाय करें। धनिया, खुरासानी, अजवाइन तुख्मकामनी, तुख्मकाहू, तुख्मखीरा, भूसी इसबगोल, मिश्री, कुंजा इनकी मात्रा लेकर चूर्ण बना लें। 5-5 ग्राम की मात्रा सुबह-शाम ताजे पानी से 30 दिन खायें। इस दौरान आप ये परहेज करें। जैसे कि खटाई, अंडा, मदिरापान, गुड़, चावल, दूध दवा का सेवन करने तक ना पिएं।
  • नाईट फॉल को रोकने के लिए तुलसी के बीज को 5-5 ग्राम कुछ देर के ग्राम पानी में रखें। फिर शाम को इसका सेवन करें।
  • नाईट फॉल से जल्दी छुटकारा पाने के लिए बीज बंद 3 ग्राम पानी के साथ सेवन करें।
  • स्वप्नदोष की समस्या में ये देशी उपाय करें। सफेद मूसली, सालब मिश्री, संदल सफेद, छोटी इलायची, जीरा सफेद, भूसी इसबगोल, शतावर। इन सबको 10-10 ग्राम की मात्रा में लेकर पीस लें। फिर छान लें। इस तैयार चूर्ण की 6-6 ग्राम मात्रा को दूध के साथ सुबह-शाम सेवन करें। स्वप्नदोष के साथ धातु रोग में भी आराम प्राप्त होगा।
  • 125 ग्राम के करीब इमली के बीज को 500 ग्राम दूध में भिगोकर रखें। 2 दिन बाद इनके छिलके निकाल लें। फिर साफ करके पीस लें। 5-5 ग्राम सुबह-शाम पानी के साथ सेवन करें। धातु रोग के लिए बढ़िया उपाय है।
  • मुलहठी का सेवन स्वप्नदोष में बहुत बढ़िया विकल्प साबित होता है। इसके लिए आप मुलहठी का चूर्ण 4 ग्राम शहद के साथ सेवन करें।
  • आंवले का चूर्ण को धागे वाली मिश्री के साथ मिलाकर सेवन करने से नाईट फॉल में जल्द राहत मिलती है।

यह भी पढ़ें –देर तक संभोग कैसे करें?

नाईट फॉल की आयुर्वेदिक दवा (Nightfall ki Ayurvedic dawa)

Nightfall, Dhat Rog, Shukranu Ki Kami, Shighrapatan Ke Liye Herbal Medicine - SHUKRAWAH
Nightfall, Dhat Rog, Shukranu Ki Kami, Shighrapatan Ke Liye Herbal Medicine – SHUKRAWAH

स्वप्नदोष की आयुर्वेदिक दवा शुक्रवाह (SHUKRAWAH) का सेवन करने से शीघ्र ही स्वप्नदोष की समस्या से छुटकारा प्राप्त हो जाता है। दुर्लभ जड़ी-बूटियों से तैयार इस दवा का बिल्कुल भी कोई साइड इफेक्ट नहीं है।

नाईट फॉल की आयुर्वेदिक दवा शुक्रवाह के फायदे

  • यह दवा नाईट फॉल को ठीक करने में सहायक है।
  • वीर्य की क्वालिटी और मात्रा को बढ़ाने में सहायक है।
  • शुक्राणु की मात्रा को बढ़ाने में सहायक है।
  • शीघ्रपतन की समस्या को ठीक करने में मदद करती है।
  • यौन शक्ति को बढ़ाकर सेक्स लाइफ को बेहतर बनाती है।
  • हस्तमैथुन से आई कमजोरी को दूर करने में सहायक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here